Remedies for foot pain

पैरों में दर्द पैरों के किसी भी भाग जैसे मांसपेशियों,हड्डियों,स्नायु,नस,खून की धमनियों,पैरों के नाखूनों तथा त्वचा आदि में हो रही तकलीफ से भी हो सकता है।

पैरों के दर्द के कई कारण होते हैं जैसे अंदरुनी रूप से पैर के नाखून का बढ़ना,फंगल संक्रमण आदि।इन सबमें आपको डॉक्टरी सहायता की आवश्यकता होती है। लेकिन कई बार आपके पैरों के आकार के जूते ना होने पर भी आपका उसमें पैर डालना,थकान या बुढ़ापे की वजह से भी पैरों की समस्या होती है। ऐसी समस्याओं से निजात पाने के लिए आपको ज़्यादा समय या ऊर्जा खर्च नहीं करनी पड़ती। सिर्फ एक अच्छे फुट मसाज या मैनीक्योर या गर्म पानी की बाल्टी में पैर डाले रखने से भी आराम मिलता है।

पैरों में दर्द के कारण

१. पैरों की असामान्यता

सामान्य असामान्यताएं जैसे समतल पंजे,जोड़ों में परेशानी आदि की वजह से भी पैरों का दर्द हो सकता है।

२. गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान वज़न के ज़्यादा बढ़ जाने से तथा हॉर्मोन्स में असंतुलन की वजह से पैरों के स्नायुओं में अत्याधिक दबाव पड़ता है और उनमें दर्द होता है।

३. मोटापा

शरीर का सारा भार पैरों पर होता है। मोटापे से पैरों के जोड़ों,स्नायुओं और मांसपेशियों पर ज़्यादा दबाव पड़ता है।

४. बिना माप के जूते

वो जूते जो आपके पैरों में फिट नहीं बैठते आपके पैरों में दर्द के कारक बन सकते हैं। अगर जूते आपके पैरों में ढीले हो रहे हैं तो इससे जूते के अंदर आपके पैरों की बेवजह हरकतें होंगी जिसकी वजह से उनमें थकान की समस्या आ जाती है।

५. पैरों का ज़्यादा इस्तेमाल

काफी लम्बे समय तक चलने या खड़े रहने की वजह से तथा अन्य कई कारणों से स्वस्थ पैरों में जलन और दर्द की समस्या आ जाती है। इसके अलावा कठोर सतह जैसे कंक्रीट पर चलने या खड़े रहने से पैरों पर अनावश्यक दबाव पड़ता है।

६. कुछ स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं तथा बीमारियों से भी पैरों में दर्द होता है। ये बीमारियां हैं मधुमेह,जोड़ों का दर्द तथा ह्रदय सम्बन्धी बीमारियां।

पैरों की आम समस्याएं और उनके उपचार

१. एड़ियों में दर्द

ये दर्द प्लांटर फैसीआइटिस की वजह से होता है। प्लांटर फाशिया एक तंतु होता है जो एड़ियों की हड्डियों को पैर के अंगूठे से जोड़ता है और इस स्थिति में इसमें काफी जलन तथा सूजन भी आ जाती है। प्लांटर फैसीआइटिस की सबसे सामान्य समस्याएं एड़ियों और उसके आसपास का दर्द होता है।

प्लांटर फैसीआइटिस के इलाज में शामिल है आराम करना,एड़ियों और पैरों का व्यायाम तथा अपने माप के जूते पहनना।

२. हील स्पर

ये हड्डियों की असामान्य बढ़त को कहते हैं जो एड़ियों की हड्डी के निचले सिरे से शुरू होते हैं। इनके मुख्य कारण होते हैं गलत मुद्रा में खड़े रहना या चलना,सही माप के जूते ना पहनना तथा कुछ शारीरिक गतिविधियाँ जैसे दौड़ना। इस समस्या से चलने या दौड़ने के समय पैरों में दर्द होता है। समतल पंजों वाले लोगों को हील स्पर की संभावना ज़्यादा होती है।

इस समस्या के उपचार के लिए जिन चीज़ों का सहारा लिया जाता है वो हैं हील पैड्स,इन्सर्ट्स,सही माप के जूते पहनना जिनमें शॉक अब्सॉर्बिंग सोल्स हों तथा आराम।

३. एड़ियों की गोलाई में दर्द

पैरों में दबाव डालने वाली गतिविधियाँ जैसे दौड़ना या कूदना या गलत माप के जूते पहनना आमतौर पर एड़ियों की गोलाई के दर्द के कारण होते हैं। इसे स्टोन ब्रूज़ कहते हैं जो कि पैरों की गोलाई में लगे घाव को कहते हैं। यह किसी चोट की वजह से होता है पर किसी कठोर चीज़ पर पैर रखने की वजह से भी हो सकता है। इस दर्द को बर्फ द्वारा और पैरों को आराम देकर दूर किया जा सकता है। पैरों के जूते बदलने और जूतों में इन्सर्ट डालने से भी पैरों की गोलाई के दर्द में आराम मिलता है।

 

 

REFERENCES

https://hinditips.com/natural-causes-for-foot-pain-and-soothe-tips-for-foot-pain/