Kali Khansi Ka Ilaj

खांसी से हम सभी को परेशानी होती है और ये किसी भी उम्र में हो सकती है  और सबसे ज्यादा सुखी खासी से परेशानी होती है | कभी आपको खांसी होती है तब खांसी के साथ आपको जुकाम और सिर दर्द भी हो जाता है | जिसके कारण वश आपके रोज के काम काज पर भी असर पड़ता है | वैसे तो आपको बाजार में अनगिनत दावें करने वाली दवाईयों बहुत सारी मिल जाती है | लेकिन जो घरेलू दवाई होती है  इससे आपको बहुत जल्दी आराम भी मिलता और  घरेलू उपचार से आपकी  बीमारी को  जड़ से ही  खत्म हो जाती है |

  1. सबसे पहले आप तवे पर जरा सी फिटकरी को भून लें | और  उसके पश्चात उसे ½ चम्मच शहद के साथ ले | 7 दिन तक लगातार सेवन करने से आपकी खांसी हमेशा के लिए ठीक हो जायेगी | अगर आप इसे बिना पानी के ले तो आपको शीघ्र लाभ होगा और अगर बिना पानी के नही ले सके तो ऊपर से हल्के गर्म पानी पी ले | ठंडा पानी पीने से आपको दोबारा खांसी हो सकती है |
  1. चम्मच दही 1 चम्मच चीनी और 6 ग्राम पिसी हुई काली मिर्च का पाउडर मिला कर खाने से आपको खांसी में तुरंत राहत मिलेगी |

3.2 ग्राम सेंधा नमक को 250 ग्राम पानी में उबालें | और जब पानी की मात्रा आधी रह जाये तब उसे ठंडा करके बोतल में भरकर रख ले | जब भी आपको खांसी हो तब एक चम्मच पी ले इससे आपको आराम मिलेगा |

 4.शहद और मुनक्के को मिलाकर खाने से आपको खांसी में शीघ्र आराम मिलेगा |

5.त्रिफला को शहद में मिला कर पीने से आराम मिलेगा |

6.पिसी हुई काली मिर्च को एक कप पानी में उबाल ले और ठंडा करे | और फिर इक चम्मच देशी मधु मक्खी के शहद में मिला कर पीने से आपको लाभ होगा | और गले की खराश भी ठीक हो जाएगी |

7.तेज खांसी आने पर आप मुलेठी के टुकड़े को कालि मिर्च के साथ पीस ले और खांसी आने पर थोडा थोडा चाटने से जल्दी आराम मिलेगा | और गले के दर्द में भी आराम होगा | और सुजन भी ठीक  हो जाएगी |

काली खांसी में परहेज :-

हमेशा गुनगुना पानी पियें |

फ्रिज का पानी बिल्कुल ना पीये |

हो सके तो मटके के पानी का इस्तेमाल करे |

तली हुई चीजों का प्रयोग बिलकुल भी न करे |

मीठी चीजे खाने के बाद बिल्कुल भी पानी न पीये |

अगर आपकी को इन घरेलू उपचार भी आपको आराम नही मिल रहा है | और आपकी खांसी को 3 हफ्ते से ज्यादा का समय हो गया है तो आपको किसी योग्य और अनुभवी डॉक्टर को जरुर दिखा लेना चाहीये |

Source : http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/kali-khansi-ka-ilaj-in-hindi.html