Benefits of eating rice

चावल एकमात्र ऎसा अनाज है जिसे छोटे से बड़े तक हर कोई पसंद करता है। यह दुनिया भर में प्रमुख रूप से खाए जाने वाला अनाज है। भारत में चावल से बहुत सारे पकवान बनाए जाते है और भारत में इसका सर्वाधिक प्रयोग दक्षिण भारत से ज्यादा उत्तर भारत होता है। पके हुए चावल को भात भी कहा जाता है और संस्कृत में चावल को “तण्डुल” कहा जाता है। चावल को लेकर सबसे बड़ा मिथ ये भी है, जैसे कि इसको खाने से वजन बढ़ता है। डाइटिशियन भी जब आपको वजन घटाने की सलाह देता है तो सबसे पहले आपके� डाइट चार्ट में से चावल ही हटाता है।

वेट कंट्रोल

चावल में कार्बोहाइड्रेट की भरपूर मात्रा होती है। दोपहर के भोजन में चावल को शामिल करने से आपका वेट कंट्रोल होता है। वजन के हिसाब से तय करके इसे रोज खाया जा सकता है लेकिन साथ में सलाद जरूर लें। इसे लंच टाइम में ही खाना बेहतर होता है क्योंकि इस समय शरीर का मेटाबॉलिज्म हाइ होता है। जो बॉडी में गए कार्बोहाइड्रेट्स को प्रॉपर यूज करता है।

डायजेशन रखें सही

चावल खाने से डायजेशन भी सही रहता है। हाजमा खराब होने पर चावल का मांड पीना बहुत फायदेमंद होता है।चावल में माइ सॉल्यूबल होता है जो खुद के साथ-साथ खाना पचाने में भी सहायक होता है।

बढ़ाए इम्यूनिटी

चावल बहुत हल्का अनाज होता है और इसी कारण ये आसानी से पच जाता है। किसी भी रोगी को बीमारी में सदा डॉक्टर द्धारा खिचड़ी खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसके सेवन से शरीर को फौरन एनर्जी मिलती है। इससे ब्लड शुगर भी कंट्रोल होता है।

माईग्रेन में फायदेमंद

माईग्रेन प्रॉब्लम के इलाज में भी चावल बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप चावल में शहद मिलाकर कम से कम एक सप्ताह तक लगातार खाएंगे तो आप अपनी माईग्रेन प्रॉब्लम में राहत महसूस करेंगे। रोजाना खिचड़ी खाने से आपका पेट तो दुरूस्त रहता ही है, इसी के साथ आपका ब्रेन डेवलपमेंट में भी सहायता मिलती है।

 

– See more at: http://www.patrika.com/news/diet-fitness/do-you-know-rice-increase-immunity-not-your-weight-1130148/#sthash.X1woNrSg.dpuf