Russian-city-murmansk:where sun doesn’t rise for 40 days

रमैन्सक। रूस के मुरमैन्सक शहर में 2 दिसंबर से अब तक लोगों ने सुबह नहीं देखी है। शहर पिछले 20 दिन से अंधेरे में है। मुरमैन्स्क उन 30 शहरों में से एक है, जो आर्कटिक सर्किल पर है। यहां पोलर नाइट चल रही है। इसके चलते 10 जनवरी तक लोगों को सूरज के दर्शन नहीं होंगे।� यह है कारण आर्कटिक सर्किल उत्तरी गोलार्ध में वह दक्षिणी अक्षांश है, जहां सूरज…

Read More >>

Skin to Skin Kangaroo Care for New Borns

न्यूयार्क। दुनियाभर में प्रत्येक वर्ष 40 लाख शिशुओं की विभिन्न कारणों से जन्म के एक महीने के भीतर ही मौत हो जाती है लेकिन एक शोध के अनुसार अगर समय से पूर्व जन्मे बच्चे (प्रीमेच्योर बेबी) को उसकी मां लंबे समय तक अपने सीने से चिपकाए रखे तो उसके जीवित रहने की संभावना काफी बढ़ जाती है। शोधकर्ताओं ने इसे कंगारू केयर का नाम दिया है। कंगारू केयर एक ऐसी…

Read More >>

Sunlight and its weight loss Benefits

न्यूयार्क। सूर्य केवल हमें रोशनी ही नहीं देता है, बल्कि कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करता है। सूर्य की रोशनी की मदद से मानव शरीर में बनने वाला विटामिन डी बैरिएट्रिक सर्जरी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। वैज्ञानिकों के अनुसार, जो रोगी बैरिएट्रिक सर्जरी (वजन घटाने वाली सर्जरी) जनवरी से मार्च महीने में कराते हैं, (जिस समय शरीर में…

Read More >>

Problems that come with Vitamin D Deficiency

इरिटेबल बॉवल सिन्ड्रोम (आईबीएस) एक चिरकालिक और पेट एवं आंतों को कमजोर करने वाला विकार है जिससे विश्वभर में लगभग 9 से 23 प्रतिशत लोग ग्रस्त हैं। यह क्यों और कैसे परिस्थितियों को विकसित करता है, अभी तक यह एक रहस्य ही है परन्तु आहार कारक एवं तनाव इसके लक्षणों को और भी बदतर बनाते हैं।� इसके लक्षणों में दस्त, कब्ज, सूजन, मल में सफेद या पीला बलगम और अधूरे…

Read More >>

PMS problems :Say them good bye!!

मासिक के दौरान होने वाली तकलीफदेह ऐंठन को दूर करने के लिए अपने पेट और कमर के निचले हिस्से पर गर्म पानी की थैली रखना और साथ ही इस दौरान दुग्ध उत्पादों, मांस और दालों के सेवन से बचना आपको इस समस्या में काफी आराम दिला सकता है। यह कहना है विशेषज्ञों का। राजधानी दिल्ली स्थित इरीन आईवीएफ सेंटर की निदेशक इंदिरा गणेशन ने इस दर्द को कम करने के…

Read More >>

Fish Oil benefits

नई दिल्ली। मछली के तेल का इस्तेमाल प्रौढ़ावस्था में वजन बढने के खतरे को कम करता है। जापान में क्योटो विश्वविद्यालय के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ अग्रिकल्चर के प्रोफेसर तेरुओ क्वादा के नेतृत्व में हुए शोध में अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि मछली का तेल पाचन तंत्र ,अनुकंपी तंत्रिका तंत्र में अभिग्राहक नली को सक्रिय करता है जिससे वसा कम होता है जिससे वजन बढने का खतरा कम हो जाता है।वसा उत्तक…

Read More >>

Which Cough Syrup not to drink

लंदन। दर्द निवारक दवाओं के रूप में आमतौर पर सुझाई जाने वाली \’कोडीन\’ आपकी स्मृति क्षमता को प्रभावित कर सकता है। यह सर्दी-खांसी की दवाओं में भी पाया जाता है, जो आसानी से दवा की दुकानों में उपलब्ध होती हैं। ऐसे में सर्दी-खांसी की उन दवाओं से परहेज करने की आवश्यकता है, जिनमें \’कोडीन\’ पाया जाता हो। विशेषज्ञों के अनुसार, कोडीन के इस्तेमाल से खांसी में राहत की संभावना बहुत…

Read More >>

Treatment for cancer

मुंबई।लोबिया के पत्तों में लगाने वाला वायरस कैंसर जैसे खतरनाक बीमारी से लडऩे में कारगर हैं। दरअसल, लोबिया वायरस के नैनोपार्टिकल्स (सूक्ष्म कण) रोग प्रतिरोधक क्षमता को सक्रिय और दुरुस्त करने का काम करते हैं। नेचर नैनोटेक्नोलॉजी पत्रिका में छपी रिपोर्ट के मुताबिक वेस्टर्न रिजर्व विश्वविद्यालय और डार्टमाऊथ विश्वविद्यालय ने सैकडों वर्ष पुराने इन-सिटू टीकाकरण तकनीक से चूहे पर इसका परीक्षण कर पाया कि इससे कैंसर के कोशिकाओं से लडऩे…

Read More >>

Treatment for beautiful skin

क्रायोथेरेपी का उपयोग हॉलीवुड की अधिकतर अभिनेत्रियां खुद को जवां रखने के लिए करती हैं। यह थेरेपी आपकी त्वचा को बेदाग रखती है। इस थेरेपी में आपको या आपकी त्वचा को -140 डिग्री या उससे नीचे के तापमान में रखा जाता है। जिसके कारण ब्लड, स्किन के सर्फेस तक पहुंच जाता है। जिससे त्वचा की अशुद्ध चीजों को खून शुद्ध करता है। जिसके बाद आपकी त्‍वचा में बेदाग निखार हो…

Read More >>

Sitting work decreases your life by 61%

घंटों लंबी सिटिंग की आदत हमारे जीवनकाल को घटा देती है। अमरीका के नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन मायो क्लीनिक एवं बेरी यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने बताया है कि लगातार आठ घंटे तक शिथिल रहने वाले व्यक्ति को मौत का खतरा एक घंटे शिथिल रहने वाले व्यक्ति की तुलना में 61 फीसदी ज्यादा होता है। वैज्ञानिकों ने विभिन्न अंगों पर इसके असर को विस्तार से बताया…

Read More >>